दिल्ली पुलिस ने ऑपरेशन मिलाप के तहत एक लापता नाबालिग लड़की को उसके परिवार से मिला दिया

नई द‍िल्‍ली. द‍िल्‍ली के साउथ ईस्‍ट ज‍िला (South East District) की ओर से लगातार लापता बच्‍चों का पता लगाकर उनको पर‍िजनों से म‍िलवाने का काम क‍िया जा रहा है. यह सभी द‍िल्‍ली पुल‍िस (Delhi Police) के ऑपरेशन म‍िलाप अभ‍ियान के तहत क‍िया जा रहा है. ताजा मामला साउथ ईस्‍ट ज‍िला अंतर्गत थाना हजरत निजामुद्दीन का सामने आया है जहां पुल‍िस टीम ने “ऑपरेशन मिलाप” के तहत एक लापता नाबालिग लड़की को उसके परिवार से मिलाया है.

साउथ ईस्‍ट ज‍िला डीसीपी ईशा पांडे ने बताया क‍ि लापता बच्चों के मामलों में वृद्धि को ध्यान में रखते हुए जिले के थाना हजरत निजामुद्दीन के एएसआई रूप सिंह, प्रधान सिपाही नागेंद्र, प्रधान सिपाही जमशेद अली की एक समर्पित टीम गठ‍ित की गई. इस टीम ने ऑपरेशन मिलाप के तहत अपने परिवार के साथ 3 साल की नाबालिग लड़की को फिर से मिला दिया है.

डीसीपी के मुताब‍िक 24 अक्‍टूबर को दरगाह, हजरत निजामुद्दीन के परिसर में तीन साल की एक लावारिस नाबालिग लड़की के बारे में थाना हजरत निजामुद्दीन (PS Hazrat Nizamuddin) को सूचना मिली थी. जल्द ही टीम हरकत में आई और मौके पर पहुंच गई. लावारिस बच्ची को हिरासत में ले लिया गया और उसके अभिभावकों की तलाश शुरू कर दी गई.

डीसीपी ने बताया क‍ि इस मामले में दरगाह, हजरत निजामुद्दीन (Dargah, Hazrat Nizamuddin) और आस-पास के क्षेत्र में पुष्टि की गई और पता चला कि लड़की अपने परिवार के सदस्यों के साथ दरगाह आई थी. टीम ने दरगाह के आसपास लगे कैमरों के सीसीटीवी फुटेज (CCTV footages) का विश्लेषण किया और लड़की की तस्वीर के साथ डोर टू डोर वेरिफिकेशन किया गया. जिपनेट पर भी जानकारी साझा की गई.

इसके बाद लड़की के पिता का नाम ताजमल हक निवासी कोट मोहल्ला बस्ती, हजरत निजामुद्दीन पाया गया. ट्रेस की गई लड़की को उचित सत्यापन के बाद उसके पिता को सुरक्षित रूप से सौंप दिया गया और थाना हजरत निजामुद्दीन की टीम ने नि:स्वार्थ ऑपरेशन के तहत न केवल परिवार के पुनर्मिलन में परिणाम दिया, बल्कि “ऑपरेशन मिलाप” के मकसद को भी पूरा किया.

Source link

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *