Dead Body,crimc,girl Child Deth – लापता दो साल की बच्ची का शव खंडहरनुमा मकान में मिला, तंत्र-मंत्र के लिए हत्या का आरोप

गांव में लगी भारी भीड़ और हंगामे के बीच लोगों को समझाती पुलिस। संवाद

तिलहर (शाहजहांपुर)। तिलहर थाना क्षेत्र के गांव ग्वार निवासी धीर सिंह वर्मा की दो साल की बेटी प्रज्ञा 29 नवंबर को घर के बाहर खेलते समय लापता हो गई थी। पुलिस बच्ची की गुमशुदगी दर्ज कर तलाश कर रही थी। मंगलवार दोपहर करीब एक बजे गांव के एक खंडहर में बच्ची का सड़ा-गला शव मिला। मां ऊषा देवी ने अपनी चचिया सास पर तंत्र-मंत्र के चक्कर में बच्ची की हत्या का आरोप लगाया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।
29 नवंबर की दोपहर तीन बजे गांव ग्वार निवासी धीर सिंह वर्मा की मासूम बेटी प्रज्ञा घर के बाहर खेलते हुए लापता हो गई थी। परिजन ने थाने में गुमशुदगी दर्ज कराई थी। सीओ अरविंद कुमार, थाना प्रभारी रविंद्र सिंह और एसओजी की टीम ने तीन-चार दिन तक गांव में खोजबीन की, लेकिन बच्ची का कहीं पता नहीं चल सका। 15 दिन बाद मंगलवार दोपहर लगभग एक बजे बच्ची का चाचा शेर सिंह गांव के खंडहरनुमा मकान के आंगन में चार दिन पहले रखी गईं सीमेंट की चादरों को उठाने गया था। उसने देखा कि एक कुतिया कुछ नोच रही है। जब वह अंदर गया तो देखा कि बच्ची का सड़ा-गला शव पड़ा था।
सूचना पर सीओ अरविंद कुमार और थाना प्रभारी रविंद्र सिंह मौके पर पहुंच गए। पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। बच्ची की मां ऊषा देवी सूचना मिलने पर अपने मायके गांव जसोली दिवाली थाना बीसलपुर (पीलीभीत) से लगभग तीन बजे गांव ग्वार पहुंच गई। ऊषा देवी और उसके मायके वालों ने चचिया सास पर हत्या करने का आरोप लगाया। ऊषा के भाई कुंवरसेन और नोखे तथा मां प्रेमा देवी ने कहा कि उन्हें पहले ही बच्ची को मारने का शक था। पुलिस से कहा भी, लेकिन गिरफ्तारी नहीं की गई। पुलिस के सामने लगभग दो घंटे तक हंगामा होता रहा। बमुश्किल पुलिस वालों ने परिजन को शांत किया।
चचिया सास पर बच्ची और दुधमुंहे पुत्र को मारने का लगाया आरोप
प्रज्ञा की मां ऊषा देवी ने रोते हुए कहा कि उसकी पुत्री को उसकी चचिया सास ने तंत्र-मंत्र के चक्कर में मार डाला है। आरोप लगाया कि जिस समय बच्ची लापता हुई थी, उस समय वही घर पर थी। ऊषा का आरोप है कि 2019 में उसने बेटे को जन्म दिया था। पुत्र का जन्म शाहजहांपुर के अस्पताल में हुआ था। तीन दिन बाद पुत्र को लेकर जब वह घर आई थी, तब उसने पुत्र को खाट पर लिटा दिया था। वह कुछ लेने चली गई। आरोप है कि खाट पर उसकी चचिया सास बैठी थी। जब लौटकर देखा तो उसका पुत्र खाट पर मृत अवस्था में मिला। उसके नाक से खून बह रहा था। तब भी उसने सास पर मारने का आरोप लगाया था, लेकिन घरवालों के समझाने पर वह शांत हो गई। अब उसने उसकी बेटी को मार दिया है। वहीं पति धीर सिंह वर्मा ने बताया कि बच्ची को किसने मारा, उसे कुछ नहीं पता है।
तंत्र-मंत्र के चक्कर में हत्या की आशंका
ग्रामीणों ने बताया कि पुराने मकान में संपत्ति मिलने के लालच में तंत्र-मंत्र की बात सामने आ रही है। गांव में पीड़ित परिवार की किसी से कोई रंजिश नहीं है। ऐसे में मासूम बच्ची की हत्या पर तमाम सवाल खड़े हो रहे हैं। कुछ लोगों ने बताया कि पूरा परिवार कई साल पहले इस खंडहरनुमा मकान को छोड़कर अलग-अलग मकान बनाकर रहने लगे थे। बताया कि किसी तांत्रिक ने पुराने मकान में संपत्ति गड़ी होने की बात बताई थी। मकान में अक्सर पूजापाठ भी किया जाता था।
एक ही मकान में रहता है परिवार
मुनेंद्र और बालिस्टर दो भाई हैं। मुनेंद्र के दो बेटे धीर सिंह और शेर सिंह हैं। छोटा पुत्र शेर सिंह अभी अविवाहित है। उधर, बालिस्टर का एक पुत्र 7 वर्ष और एक पुत्री 4 वर्ष की है। परिवार एक ही मकान में रहता है। मुनेंद्र के हिस्से में 30 बीघा खेती है। खेती-बाड़ी करके ही गुजारा करते हैं। 2020 में मुनेंद्र और बालिस्टर ने अपनी बहन सुमन देवी का विवाह जलालाबाद में किया था। 2018 में धीर सिंह का विवाह हुआ था। दोनों विवाह में दोनों भाइयों ने खर्चा किया गया था। ऊषा देवी का आरोप है कि दोनों शादियों में खर्च हुए 10 लाख रुपये की मांग उसकी चचिया सास कभी-कभी करती थी। इसको लेकर परिवार में विवाद था।
खंडहर पहले ही तलाश चुकी थी पुलिस
सीओ अरविंद कुमार ने बताया कि बच्ची के लापता होने के बाद वह लगातार कई दिन गांव में जांच के लिए गए थे। जहां मंगलवार को शव मिला है, वहां भी खोज की गई थी। ऐसे में बच्ची का शव कब यहां डाला गया, यह जांच का विषय है। यह तो तय नजर आ रहा है कि 29 नवंबर को बच्ची के अपहरण के तुरंत बाद हत्या कर शव यहां नहीं डाला गया है। क्योंकि इससे पहले यहां पर ऐसा कुछ नहीं था।
बच्ची की गुमशुदगी का मामला पहले ही दर्ज है। पुलिस बच्ची को तलाश कर रही थी। बच्ची का शव मिलने के बाद रिपोर्ट में हत्या और अपहरण की धाराएं बढ़ा दी जाएंगी। आरोपियों की गिरफ्तारी का प्रयास किया जा रहा है।
संजीव कुमार वाजपेयी, एसपी ग्रामीण

तिलहर में खंडहरनुमा हवेली के अंदर जहां बच्ची का शव मिला उस स्थान का निरीक्षण करती पुलिस। संवाद

तिलहर में खंडहरनुमा हवेली के अंदर जहां बच्ची का शव मिला उस स्थान का निरीक्षण करती पुलिस। संवाद- फोटो : SHAHJAHANPUR

तिलहर में रोते बिलखते बच्ची की मां उषा देवी साथ में परिजन । संवाद

तिलहर में रोते बिलखते बच्ची की मां उषा देवी साथ में परिजन । संवाद- फोटो : SHAHJAHANPUR

तिलहर (शाहजहांपुर)। तिलहर थाना क्षेत्र के गांव ग्वार निवासी धीर सिंह वर्मा की दो साल की बेटी प्रज्ञा 29 नवंबर को घर के बाहर खेलते समय लापता हो गई थी। पुलिस बच्ची की गुमशुदगी दर्ज कर तलाश कर रही थी। मंगलवार दोपहर करीब एक बजे गांव के एक खंडहर में बच्ची का सड़ा-गला शव मिला। मां ऊषा देवी ने अपनी चचिया सास पर तंत्र-मंत्र के चक्कर में बच्ची की हत्या का आरोप लगाया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

29 नवंबर की दोपहर तीन बजे गांव ग्वार निवासी धीर सिंह वर्मा की मासूम बेटी प्रज्ञा घर के बाहर खेलते हुए लापता हो गई थी। परिजन ने थाने में गुमशुदगी दर्ज कराई थी। सीओ अरविंद कुमार, थाना प्रभारी रविंद्र सिंह और एसओजी की टीम ने तीन-चार दिन तक गांव में खोजबीन की, लेकिन बच्ची का कहीं पता नहीं चल सका। 15 दिन बाद मंगलवार दोपहर लगभग एक बजे बच्ची का चाचा शेर सिंह गांव के खंडहरनुमा मकान के आंगन में चार दिन पहले रखी गईं सीमेंट की चादरों को उठाने गया था। उसने देखा कि एक कुतिया कुछ नोच रही है। जब वह अंदर गया तो देखा कि बच्ची का सड़ा-गला शव पड़ा था।

सूचना पर सीओ अरविंद कुमार और थाना प्रभारी रविंद्र सिंह मौके पर पहुंच गए। पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। बच्ची की मां ऊषा देवी सूचना मिलने पर अपने मायके गांव जसोली दिवाली थाना बीसलपुर (पीलीभीत) से लगभग तीन बजे गांव ग्वार पहुंच गई। ऊषा देवी और उसके मायके वालों ने चचिया सास पर हत्या करने का आरोप लगाया। ऊषा के भाई कुंवरसेन और नोखे तथा मां प्रेमा देवी ने कहा कि उन्हें पहले ही बच्ची को मारने का शक था। पुलिस से कहा भी, लेकिन गिरफ्तारी नहीं की गई। पुलिस के सामने लगभग दो घंटे तक हंगामा होता रहा। बमुश्किल पुलिस वालों ने परिजन को शांत किया।

चचिया सास पर बच्ची और दुधमुंहे पुत्र को मारने का लगाया आरोप

प्रज्ञा की मां ऊषा देवी ने रोते हुए कहा कि उसकी पुत्री को उसकी चचिया सास ने तंत्र-मंत्र के चक्कर में मार डाला है। आरोप लगाया कि जिस समय बच्ची लापता हुई थी, उस समय वही घर पर थी। ऊषा का आरोप है कि 2019 में उसने बेटे को जन्म दिया था। पुत्र का जन्म शाहजहांपुर के अस्पताल में हुआ था। तीन दिन बाद पुत्र को लेकर जब वह घर आई थी, तब उसने पुत्र को खाट पर लिटा दिया था। वह कुछ लेने चली गई। आरोप है कि खाट पर उसकी चचिया सास बैठी थी। जब लौटकर देखा तो उसका पुत्र खाट पर मृत अवस्था में मिला। उसके नाक से खून बह रहा था। तब भी उसने सास पर मारने का आरोप लगाया था, लेकिन घरवालों के समझाने पर वह शांत हो गई। अब उसने उसकी बेटी को मार दिया है। वहीं पति धीर सिंह वर्मा ने बताया कि बच्ची को किसने मारा, उसे कुछ नहीं पता है।

तंत्र-मंत्र के चक्कर में हत्या की आशंका

ग्रामीणों ने बताया कि पुराने मकान में संपत्ति मिलने के लालच में तंत्र-मंत्र की बात सामने आ रही है। गांव में पीड़ित परिवार की किसी से कोई रंजिश नहीं है। ऐसे में मासूम बच्ची की हत्या पर तमाम सवाल खड़े हो रहे हैं। कुछ लोगों ने बताया कि पूरा परिवार कई साल पहले इस खंडहरनुमा मकान को छोड़कर अलग-अलग मकान बनाकर रहने लगे थे। बताया कि किसी तांत्रिक ने पुराने मकान में संपत्ति गड़ी होने की बात बताई थी। मकान में अक्सर पूजापाठ भी किया जाता था।

एक ही मकान में रहता है परिवार

मुनेंद्र और बालिस्टर दो भाई हैं। मुनेंद्र के दो बेटे धीर सिंह और शेर सिंह हैं। छोटा पुत्र शेर सिंह अभी अविवाहित है। उधर, बालिस्टर का एक पुत्र 7 वर्ष और एक पुत्री 4 वर्ष की है। परिवार एक ही मकान में रहता है। मुनेंद्र के हिस्से में 30 बीघा खेती है। खेती-बाड़ी करके ही गुजारा करते हैं। 2020 में मुनेंद्र और बालिस्टर ने अपनी बहन सुमन देवी का विवाह जलालाबाद में किया था। 2018 में धीर सिंह का विवाह हुआ था। दोनों विवाह में दोनों भाइयों ने खर्चा किया गया था। ऊषा देवी का आरोप है कि दोनों शादियों में खर्च हुए 10 लाख रुपये की मांग उसकी चचिया सास कभी-कभी करती थी। इसको लेकर परिवार में विवाद था।

खंडहर पहले ही तलाश चुकी थी पुलिस

सीओ अरविंद कुमार ने बताया कि बच्ची के लापता होने के बाद वह लगातार कई दिन गांव में जांच के लिए गए थे। जहां मंगलवार को शव मिला है, वहां भी खोज की गई थी। ऐसे में बच्ची का शव कब यहां डाला गया, यह जांच का विषय है। यह तो तय नजर आ रहा है कि 29 नवंबर को बच्ची के अपहरण के तुरंत बाद हत्या कर शव यहां नहीं डाला गया है। क्योंकि इससे पहले यहां पर ऐसा कुछ नहीं था।

बच्ची की गुमशुदगी का मामला पहले ही दर्ज है। पुलिस बच्ची को तलाश कर रही थी। बच्ची का शव मिलने के बाद रिपोर्ट में हत्या और अपहरण की धाराएं बढ़ा दी जाएंगी। आरोपियों की गिरफ्तारी का प्रयास किया जा रहा है।

संजीव कुमार वाजपेयी, एसपी ग्रामीण

तिलहर में खंडहरनुमा हवेली के अंदर जहां बच्ची का शव मिला उस स्थान का निरीक्षण करती पुलिस। संवाद

तिलहर में खंडहरनुमा हवेली के अंदर जहां बच्ची का शव मिला उस स्थान का निरीक्षण करती पुलिस। संवाद- फोटो : SHAHJAHANPUR

तिलहर में रोते बिलखते बच्ची की मां उषा देवी साथ में परिजन । संवाद

तिलहर में रोते बिलखते बच्ची की मां उषा देवी साथ में परिजन । संवाद- फोटो : SHAHJAHANPUR

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *