लखनऊ में मलेरिया डेंगू चिकनगुनिया की बीमारियों से सुरक्षा कवच बनाएंगे विशेष चिकित्सक

बरेली। मलेरिया-डेंगू और चिकनगुनिया जैसी बीमारियों से बचाव के लिए मंडल में आठ स्पेशल डॉक्टर रणनीति बनाएंगे। मरीजों की जांच के साथ ही प्रसार रोकने के लिए यह टीम सुरक्षा कवच तैयार करेगी। इस मौसम में प्रदेश के कई जिलों में संक्रामक रोगों के फैलने का खतरा है। बरेली, बदायूं में मलेरिया का प्रकोप कई वर्षों से रहा है। बीते साल यहां डेंगू ने भी हमला किया था। मरीजों की संख्या बीते 50 वर्षों में सबसे अधिक थी।

संक्रामक रोगों की रोकथाम, मरीजों के लिए इलाज के लिए राष्ट्रीय वेक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम के तहत प्रदेश के सभी जिलों से दो-दो डॉक्टरों को लखनऊ में प्रशिक्षण दिया गया है। प्रदेश के 150 डाक्टरों को ट्रीटमेंट एंड केस मैनेजमेंट की ट्रेनिंग मिली है। मीरगंज के डॉ. अंबरीश कुमार शर्मा, क्यारा के डॉ. विनय कुमार पाल ट्रीटमेंट एंड केस मैनेजमेंट का प्रशिक्षण लेकर आ गए हैं। दोनों डॉक्टर मलेरिया, डेंगू, चिकनगुनिया समेत अन्य वेक्टर जनित रोगों की रोकथाम में मदद करेंगे।

लखनऊ पीजीआई: हार्ट के मरीज को डॉक्टर ने रेफर कर दिया गैस्ट्रो विभाग

मलेरिया के 324, डेंगू के सात मरीज

मलेरिया और डेंगू के मरीज मिलने शुरू हो गए हैं। दस्तक अभियान पूरा होने के बाद जिले में मलेरिया रोगियों की संख्या 324 हो गई है। जनवरी से अब तक जिले में डेंगू के सात मरीज मिल चुके हैं। दो मरीज मीरगंज के हैं, जो बीते जुलाई में डेंगू पॉजिटिव आए थे।

कोरोना का भी प्रकोप

यूपी में कोरोना मरीजों की तादाद में इजाफे का दौर जारी है। रविवार को प्रदेश में कोरोना के 992 नये मरीज मिले हैं। अब कोरोना के सक्रिय मामलों की तादाद 4997 पर पहुंच गई है। गौरतलब है कि शुक्रवार को राज्य में कोरोना के 906 केस मिले थे। अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया है कि प्रदेश में शनिवार को 77121 सैम्पल की जांच की गई थी जिसमें कोरोना संक्रमण के 992 नये मामले आए हैं।

Source link

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *